अतना बता के जइहऽ कइसे दिन बीती राम

From Wikisource
Jump to navigation Jump to search
अतना बता के जइहऽ कइसे दिन बीती राम
by महेंदर मिसिर

अतना बता के जइहऽ कइसे दिन बीती राम।
हमनी का रहब जानी दुनू हो परानी।
आंगना में कींच-कांच दुअरा पर पानी।
खाला-ऊँचा गोर पड़ी चढ़ल बा जवानी। हमनी।
देस विदेसे जालऽ जालऽ मुलतानी।
केकरा पर छोड़ के जालऽ टूटही पलानी। हमनी।
कहत महेन्दर मिसिर सुनऽ दिलजानी।
केकरा से आग मांगब केकरा से पानी।
हमनी का रहब संगे दुनों हो परानी।


This work is now in the public domain because it originates from India and its term of copyright has expired. According to The Indian Copyright Act, 1957, all documents enter the public domain after sixty years counted from the beginning of the following calendar year (ie. as of 2023, prior to 1 January 1963) after the death of the author.