हिन्द स्वराज

From Wikisource
Jump to navigation Jump to search
मोहनदास करमचन्द गांधी


हिंद स्वराज


अनुवादक : अमृतलाल ठाकुरदास नाणावटी


निवेदन (काका कालेलकार)[edit]

दो शब्द (काका कालेलकार)[edit]

नई आवृत्ति की प्रस्तावना (महादेव हरिभाई देसाई)[edit]

उपोद्घात (महादेव हरिभाई देसाई)[edit]

संदेश[edit]

जिन सिद्धान्तों के समर्थन के लिए ’हिन्द स्वराज’ लिखी गयी थी, उन सिद्धान्तों को आप जाहिर करना चाहती हैं, यह मुझे अच्छा लगता है। मूल पुस्तक गुजराती में लिखी गई थी ; अंग्रेजी आवृत्ति गुजराती का तरजुमा है।


सेवाग्राम, १४-७-१९३८
मोहनदास करमचन्द गाँधी

’हिन्द स्वराज’ के बारे में[edit]

जनवरी १९२१
मोहनदास करमचन्द गांधी

प्रस्तावना[edit]

किलडोनन कैसल, २२-११-१९०९
मोहनदास करमचन्द गांधी

हिंद स्वराज[edit]

  1. कांग्रेस और उसके कर्ताधर्ता
  2. बंग-भंग
  3. अशांति और असंतोष
  4. स्वराज क्या है ?
  5. इंग्लैंड की हालत
  6. सम्यता का दर्शन
  7. हिंदुस्तान कैसे गया ?
  8. हिंदुस्तान की दशा-१
  9. हिंदुस्तान की दशा-२
  10. हिंदुस्तान की दशा-३
  11. हिंदुस्तान की दशा-४
  12. हिंदुस्तान की दशा-५
  13. सच्ची सम्यता कौन-सी ?
  14. हिंदुस्तान कैसे आज़ाद हो ?
  15. इटली और हिंदुस्तान
  16. गोला-बारूद
  17. सत्याग्रह − आत्मबल
  18. शिक्षा
  19. मशीनें
  20. छुटकारा

परिशिष्ट-१[edit]

परिशिष्ट-२[edit]

यह भी देखिए[edit]